• Uncategorized
  • 2

yatha raja tatha praja

रघुकुल रीति सदा चली आई,
प्राण जाए पर वचन न जाई.
ऐसे होते थे राजा,
और ऐसी ही होती थी प्रजा,
अब न राजा ऐसे रहे, न प्रजा,
जो जितना बेईमान वह उतना अच्छा राजा,
जो जितनी बेईमान वह उतनी अच्छी प्रजा,
कहावत फ़िर चरितार्थ हुई,
यथा राजा तथा प्रजा.


प्रजा ने लिया उधार बैंक से,
राजा ने कहा वापस मत करना,
समझना वोट की कीमत है,
मदद के नाम पर रिश्वत,
देता है राजा प्रजा को,
प्रगति की नई परिभाषा है यह.

पहले राजा मानते थे प्रजा को पुत्रवत,
अब मानते हैं एक वोट वत,
बाँटते हैं नफरत, मांगते हैं वोट,
सच्चाई इमानदारी पर करते हैं चोट.

प्रजा ने टेक्स दिया राजा को,
राजा ने खर्च किया ख़ुद पर,
विकास कार्यों मैं पाँच पैसे,
पंचान्वें अपनी जेब मैं.

बना दिया बाज़ार राष्ट्र को,
भूल गए अपना इतिहास,
खेतों मैं फक्ट्री लगाईं,
फसलों को करके बरबाद.

जब बच्चे थे तब पढ़ते थे,
कृषि प्रधान देश है भारत,
अब बूढ़े हो कर पढ़ते हैं,
कंक्रीट का जंगल भारत.


You may also like...

2 Responses

  1. Service_to_all says:

    Hello Sir,

    Though I have not been able to read the contents, based on the title I feel that our leaders are decided by the Praja and so it should be Yatha Praja Tatha Raja.

    Regards,
    SERVICE TO ALL

  2. veerugcet says:

    Dear Sir,

    Really if are comparing todays culture with old culture then how you can compare. You are talking about Rajashai culture.

    You should be remember who had been created social level system between praja.

    Only raja ka beta hi raja ho sakta hai because he belongs to that faimily.

    Aaj bhi un Rajao ki santane hai but why they are not capable to protect himself.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *