Price rise – who will win?

Common men are crying under the huge burden of rising prices. Government has been unable to control the prices. Now it is trying to find out excuses or putting the blame on others.


कीमतें आसमान छू रही हैं,
कमर तोड़ दी है महंगाई ने,
पार्टी हाई कमान घबरा गई है,
विरोधी पक्ष खूंखार हो रहा है,
पर जब उनसे पूंछा गया,
तो नमक छिड़क दिया उन्होंने जख्मों पर,
तरक्की करती अर्थव्यवस्था मैं,
कीमतें तो बढ़ेंगी ही,
और कोई खास तो नहीं बढ़ी हैं कीमतें,
व्यर्थ ही चिल्ला रहे हैं.

लगता है सत्ता का नशा,
सर चढ़ गया है.
कुछ दिन पहले जो तारीफ़ हुई थी,
प्रधान मंत्री के मुखारविंद से,
उसने और सर चढ़ा दिया लगता है,
प्याज पर बदल गई थी सरकार,
यहाँ तो हर चीज पहुँच के बाहर हो गई है,
आम जनता का आक्रोश,
और उन का घमंड,
देखें कौन जीतता है?


You may also like...

3 Responses

  1. UWON says:

    Hello,
    The reason i have already told u about rising prices in my post “The value of America”.If India stops that stupid thing,all prices will automatically go down.

    Amit.R

  2. madhu_vamsi says:

    Hello sir, The govt has no proper vision for the country. All the govt is interested to fill their pockets with money. Who suffer most is the common man and no one cares about the future of a common man… I loved reading ur views and agony. Thanks for sharing here on eblogs…

    Madhu Vamsi….

  3. Service_to_all says:

    Hello,

    Naturally the Black marketeers, the hoarders and the corrupt politicians.

    Regards,
    SERVICE TO ALL

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *